बुधवार, 5 सितंबर 2012

एक नवजात शिशु का धन्यवाद ज्ञापन


माँ
तुझे धन्यवाद
बहुत-बहुत धन्यवाद
मुझे दुनिया दिखाने के लिए,
मैं तो डर ही गई थी
जब पता चला की
जाने वाली हूँ दुनिया से मैं
दुनिया में आने से पहले ही,
मैं घबरा उठी थी
मेरी सांस रोक दी जायेगी हमेशा-हमेशा के लिए
खुली दुनिया में सांस लिए बिना ही,
सचमुच मेरी सांस अटकने लगी थी
जब सुनी की
पापा भी खुश नहीं हैं
मेरे आने की खबर पर,
लेकिन मेरी प्यारी माँ
मुझे विश्वास था
तुम ऐसा होने नहीं दोगी
मैं आऊँगी बाहर
दुनिया देखूँगी
खुली हवा में सांस लुंगी
और महसूस करुँगी
एक माँ होने का दर्द
जो की पापा और दादी ने दिए थे उस रात,
हाँ.. माँ... हाँ..
मैं सब कुछ सुन रही थी
दुबकी पड़ी थी मैं चुपचाप तुम्हारेपेट के एक कोने में,
मेरी अच्छी माँ
तुझे धन्यवाद...
धन्यवाद...
बहुत-बहुत धन्यवाद...

4 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

मेरी रचनाओं पर आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया स्वरुप एक-एक शब्द के लिए आप सबों को तहे दिल से शुक्रिया ...उपस्थिति बनायें रखें ...आभार