शनिवार, 15 सितंबर 2012

बेटियाँ


पता नहीं कब
बड़ी हो जाती हैं बेटियाँ
जैसे
बड़े होते हैं पेड़
बड़े होते हैं दिन
बड़ी होती हैं रातें

पता नहीं कब
ओढ़ लेती है चादर
शर्म –ओ- हया के

पता नहीं कब उसका शरीर
बन जाता है
शरीर कहलाने लायक

पता नहीं कब
खिल जाते हैं फूल
खिल जाती है बेटियाँ
मुरझा जाते हैं फूल
मुरझा जाती हैं बेटियाँ

पता नहीं कब
बुहारन बन जाती हैं बेटियाँ
लाख कोशिश के बावजूद चौखट में
फंसी रह जाती हैं बेटियाँ

पता नहीं कब
उसके बाल कंघी में
उलझने लगते हैं

पता नहीं कब
माँ का स्नेहिल आँचल
बन जाता है
इज्जत ढकने का वस्त्र
कंधे झुक जाते हैं
जब आती हैं बेटियाँ
आँखे भर आती हैं
जब जाती हैं बेटियाँ

पता नहीं कब
आती हैं बेटियाँ
और क्यों
चली जाती हैं बेटियाँ......|

2 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

मेरी रचनाओं पर आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया स्वरुप एक-एक शब्द के लिए आप सबों को तहे दिल से शुक्रिया ...उपस्थिति बनायें रखें ...आभार