मंगलवार, 26 फ़रवरी 2013

देश की कहानी




जब घर में अँधेरा छाता है
चाँद भी मुँह फेर जाता है
लोगों के ताने को सुन
सूरज उगने से घबराता है

जब रोज-रोज की बदहाली से
घर में तंगी हो जाती है
घरवाला माथा पिटता है
घरवाली मायके चली जाती है

जब बंजर भूमि को देख किसान
आत्महत्या कर लेते हैं
तब नया फरिश्ता आता है
संग नयी योजना लाता है
झोपड़ियों की डिबिया बुझा
शौक से बिजली चमकता है


 जब पिज्जा बर्गर की आंधी में
सूखी रोटी उड़ जाती है
कोई तरसता है दाने-दाने को
कोई लात मरता खाने को

लोकतंत्र है पर लोक नहीं
न राजतन्त्र में राजा
आधा से ज्यादा लूट चुके
कहते हैं
जो बचा है वो भी आजा

दुनिया है दिलदारों की
कमी नहीं कद्रदानों की
जब कोई हुंकार लगाता है
और सोए को जगाता है
सरकार फुर्सत से खबर छपवाती है
और उनको जेल भिजवाती है

भला हमारे आकाओं की
ये कैसी मनमानी है
ये सिर्फ एक की नहीं
पूरे देश की कहानी है......
पूरे देश की कहानी है........
पूरे देश की कहानी है.............|

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोगो के ताने सुन सूरज भी उगने से घबराता है,क्या बात है अतिसुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सच है की पूरे देश में ही यही कुछ हो रहा है आज ... हाहाकार नाची हुई है ...
    बहुत लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोई तरसता है दाने-दाने को
    कोई लात मरता खाने को..............लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं

मेरी रचनाओं पर आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया स्वरुप एक-एक शब्द के लिए आप सबों को तहे दिल से शुक्रिया ...उपस्थिति बनायें रखें ...आभार