शुक्रवार, 24 अगस्त 2012

माँ को मालूम नहीं है...


माँ को मालूम नहीं है
की लिख चुका हूँ
कितनी ही कविताएँ उसके नाम से,
उसे तो यह भी मालूम नहीं
की वो
मेरी कविताओं में ना होकर भी मौजूद रहती है
किसी न किसी रूप में ,
मेरी माँ खीझ उठती है
मेरी कविताओं से
कहती है –
मुझे क्या मतलब
तेरी इन कविताओं से ....
सच है
उसे कोई मतलब नहीं
मेरी कविताओं से,
लेकिन उसे तो यह भी पता नहीं
कि
मेरी कविताओं का मतलब तो सिर्फ
उसी से पूरी होती है ....|

1 टिप्पणी:

  1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं

मेरी रचनाओं पर आपके द्वारा दिए गए प्रतिक्रिया स्वरुप एक-एक शब्द के लिए आप सबों को तहे दिल से शुक्रिया ...उपस्थिति बनायें रखें ...आभार